Home > C++ > OOPs Concepts In Hindi

OOPs Concepts In Hindi

C++ Concepts In Hindi

OOPs Concepts In Hindi -: object oriented programming(OOPs) के अलग अलग concepts होते है। इन्ही features की वजह से opps based programming secure और best मानी जाती है। चलिए जानते है की C++ OOPs Concepts In Hindi.

  • Class
  • Objects
  • Inheritance
  • Abstraction
  • Encapsulation
  • Polymorphism

Learn C Programming Basic To Advance In Hindi

  • Class

    जब भी आप c++ में program बनाते है तो सबसे पहले आप program के structure को define करते है तो वो structure class कहलाता है। class एक blueprint होता है program का। सारे काम आप इस class के अंदर ही करते है।

  • Objects

    जब आप class बना लेते हो तो उसके बाद आप उस class में variable और function बनाते हो और इन variable और function को oops में members और method कहा जाता है तो आप direct इन members और function को access नहीं कर सकते है इसके लिए आपको class type का variable बनाना पड़ता है और इसी class type के variable को objects बोला जाता है।

  • Inheritance

    ये opps programming का बहुत ही important concept है inheritance में आप एक code को दूसरी class में use कर सकते है इसके लिए आपको class inheritance करनी पड़ेगी। इसका मतलब ये है की जैसे अपने 2 class बनाई class A और class B तो जब आप class A को class B में inheritance करेंगे तो जो भी class B के members और function होंगे वो आप class B से access कर सकते है इससे code की re-usability बढ़ जाती है और आपको बार बार code नहीं लिखना पड़ता है। आगे inheritance को और अच्छे से समझेंगे।

  • Abstraction

    c++ में abstraction data को hide करने के लिए use किया जाता है। और user को वही functionality show करता है जिसकी जरुरत होती है बाकी program को hide कर लेता है जैसे की आप smartphone चलाते है तो smartphone कैसे काम करता है कैसे camera images click करता है उससे आपको कोई लेना देना नहीं है बस आपका काम हो रहा है यही चीज़ abstraction में होती है।

  • Encapsulation

    Encapsulation का use data को hide करने के लिए किया जाता है। Encapsulation class के members और functions को single unit में bind कर देता है। ये class के members को outside access से protect करता है। और इसके लिए ये 3 types के access modifier(public,privet,protected) का use करता है।

  • Polymorphism

    Polymorphism में एक नाम के बहुत सारे functions होते है जिनका अलग अलग काम होता है। Polymorphism को overloading method के द्वारा implement किया जाता है।

तो देखा बहुत सारे concepts और features है c++ में आगे इन सब के बारे में details में पढ़गे और program भी बनायंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *